रोगों को ठीक करने के लिए योग

अगर आप किसी रोग से परेशान हैं और उसे जड़ से समाप्त करना चाहते हैं तो योग से अच्छा और सस्ता कोई भी इलाज नहीं है और इसके परिणाम आपको कुछ दिनों के योगाभ्यास में ही दिख जायेगा | योग के द्वारा बड़े से बड़े रोगों  का भी इलाज संभव है बस जरुरत है तो ठीक ढंग से रोजाना योगाभ्यास करने की | इस लेख में हम रोगोपचार की दृष्टि से योग के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे | इस लेख में हम स्वामी रामदेव द्वारा बताये गए योग के बारे में चर्चा करेंगे |






योगाभ्यास को हम तीन भागों में बाँट सकते है :- ( i ) प्राणायामों का अभ्यास   ( ii ) विभिन प्रकार के आसनो का अभ्यास  (iii ) ध्यान का अभ्यास



( i ) प्राणायामों का अभ्यास - इसके अभ्यास से हम बड़े से बड़े रोगों को भी ठीक कर सकते हैं इसका अभ्यास मुख्य्तः बैठ कर किया साँसों की प्रक्रिया को नियंत्रण में लाने के लिए किया जाता है और इसे रोगी और स्वस्थ दोनों कर सकतें हैं | इसके अभ्यास से हमारे शरीर के रोग , मन के विकार तो ठीक होतें ही हैं साथ साथ हमारे शरीर , मन और आध्यात्मिक जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ता है | योग में प्राणायामों का अभ्यास ही अधिक लाभप्रद माना जाता है क्योंकि इसका प्रभाव हमारे शरीर , मन , विचार पर भी पड़ता है जो की आसनो के अभ्यास से नहीं हो सकता है |

यों तो प्राणायाम कई तरह के होते है पर स्वामी रामदेव के द्वारा बताये जाने वाले 8 मुख्य प्राणायामों को करने से हमें योग के लगभग सारे लाभ मिल जाते है | ये प्राणायाम हैं :-

1. भस्त्रिका प्राणायाम  ( 2 से 5 मिनट ) 
2 . कपालभाति प्राणायाम ( 15 से 30 मिनट )
3. बाह्य प्राणायाम  ( 3 से 11 बार ) 
4. उज्जायी प्राणायाम ( 3 से 11 बार )
5. अनुलोम विलोम प्राणायाम ( 15 से 30 मिनट ) 
6. भ्रामरी प्राणायाम ( 3 से 11 बार )
7. उदगीत प्राणायाम ( 3 से 11 बार )
8. गहरी सांसो का ध्यान  ( 10 मिनट से इच्छानुसार )


इन सभी प्राणायामों को सीखने के लिए क्लिक करके इस वीडियो को अवश्य देखें


(ii). आसनो का अभ्यास  - योगासनों से हमारे शरीर की काम करने की क्षमता बढ़ती है , शरीर में लचीलापन आता है , शरीर में किसी भी प्रकार के दर्द से मुक्ति मिलती है और शरीर आकर्षक बनता है | परन्तु अगर आप रोगी है और आसनो को नहीं कर पा रहें है तो कोई बात नहीं , आप केवल प्राणायाम ही करे उसी से आपके रोग ठीक होंगे , आसनो का काम  केवल शरीर को मजबूत, लचीला और आकर्षक बनाने का है रोगों को ठीक करने के लिए हमें प्राणायामों का ही अभ्यास मुख्य रूप से करना चाहिए | अगर आप सक्षम है तो आपको आसनो का अभ्यास जरूर करना चाहिए | रोजाना अगर आप १० मिनट भी आसनो का अभ्यास करते हैं तो आपको शरीर में एक नयी ताजगी का अनुभव होगा |

महत्वपूर्ण एवं लाभदायक आसनो को सीखने के लिए क्लिक करके इस  वीडियो को अवश्य देखें | 


(iii ). ध्यान का अभ्यास  - ध्यान के अभ्यास करने के हज़ारों तरीके हैं पर सभी तरीको का उद्द्येश हमारी एकाग्रता को बढ़ा कर हमें जागरूक बनाना है | जैसे ही हमारे मन की एकाग्रता बहुत ज्यादा बढ़ जाती है हम जीवन से हरेक परिस्थियों में जागरूक रहकर आपने सही निर्णय ले सकते है | ध्यान के कई चमत्कारिक लाभ भी होते है पर सभी को  इसके अलग अलग अनुभव होते है उनके अवचेतन मन के अनुसार | ध्यान के करने के मुख्य लाभ है हमारे शरीर और मन के सभी रोगों और बुरे विचारों का नाश हो जाता है , मन में एक अलग प्रकार की शान्ति का अनुभव होता है , और हमारा आध्यात्मिक जीवन में प्रवेश हो जाता है |

यहाँ पर हम स्वामी रामदेव द्वारा बताये गए ध्यान को वीडियो द्वारा सीखेंगे - यहाँ क्लिक करें 

रोगों को ठीक करने के लिए योग रोगों को ठीक करने के लिए योग Reviewed by A Sinha on नवंबर 01, 2018 Rating: 5
Blogger द्वारा संचालित.