फाइलेरिया के घरेलु उपचार - Herbal Home Remedies For Elephantiasis.




फाइलेरिया (Elephantiasis) एक गंभीर बीमारी में आते है जिसको बोलचाल के भाषा में हाथी -पॉव भी कहा जाता है। फाइलेरिया एक भयानक बीमारी है  जिसमे किसी भी पुरुष या स्त्री के शरीर का कोई भाग फुल जाता है जिस कारण उस व्यक्ति को चलने -फिरने में काफी कठिनाई होते है तथा फाइलेरिया से ग्रसित भाग काफी भयानक दिखता है। अक्सर देखा गया है कि  फाइलेरिया एक वंशागत रोग भी है क्योंकि यदि परिवार के किसी व्यक्ति को फाइलेरिया का शिकायत है तो परिवार के अन्य सदस्य को फाइलेरिया होने का खतरा जायदा रहता है। ऐसे तो फाइलेरिया की उत्पति फाइलेरयासिस परजीवी के काटने से उत्पन होते है। भारत जैसे देश में कई जगहों पर इसे छूआछात की बीमारी माना जाता है।

फाइलेरिया (Elephantiasis)  के लक्षण Symptoms Of Elephantiasis :-  

  • फाइलेरिया से ग्रसित रोगी के पॉव फुल जाना व दर्द होना एक प्रमुख लक्षण माने जाते है। 
  • कभी -कभी फाइलेरिया के सूजन के कारण बुखार भी आ जाते है। 
  • कभी -कभी गले में सूजन हो जाना भी फाइलेरिया के लक्षण माने जाते है। 
  • जंगो के मध्य में गिल्टी होना व दर्द महसूस होना फाइलेरिया के ही लक्षण है। 
  • जब किसी को फाइलेरिया हो जाता है तो ग्रसित स्थान सूजन के साथ -साथ लाल भी दिखाई पड़ने लगते है। 
  • किसी पुरुष का हाइड्रोसील में सूजन आ जाना तथा काफी दर्द होना फाइलेरिया के ही लक्षण है। 
  • यदि किसी महिला के स्तन अपने आकार से जायदा फुल जाये तथा दर्द का भी अनुभव हो तो फाइलेरिया  के लक्षण हो सकते है। 

फाइलेरिया  (Elephantiasis)  के कारण  Cause Of Elephantiasis :-

  • फाइलेरिया संक्रमित परजीवी के काटने से उत्पन हो सकते है। 
  • फाइलेरिया होने के एक कारण किसी अन्य सदस्य को होना भी माना जाता है। 

फाइलेरिया (Elephantiasis) के घरेलु उपचार Herbal Home Remedies For Elephantiasis :-

1.  अदरक से फाइलेरिया के घरेलु उपचार :-
  • फाइलेरिया एक कठिन बीमारी में माने जाते है फिर भी हम आसान घरेलु नुस्खे को अपनाकर इसका इलाज कर सकते है। फाइलेरिया को काफी हद तक ठीक करने में अदरक काफी उपयोगी माने जाते रहे है। यदि अदरक को सूखा कर उसका पॉउडर बनाकर रोजाना गर्म पानी के साथ एक से दो बार सेवन किया जाये तो फाइलेरिया से निजाद पाया जा सकता है। 

२. आमला  से फाइलेरिया के घरेलु उपचार :-

  • आमला के उपयोग से फाइलेरिया के रोगी को काफी फायदा होता है। यदि  फाइलेरिया के रोगी रोजाना आमला का सेवन करे तो फाइलेरिया के सूजन से लाभ मिलता है तथा दर्द से  भी राहत मिलती है। 

3.  लौंग से फाइलेरिया के घरेलु उपचार :-

  • लौंग का उपयोग आदिकाल से ही कारगर औषधि में किया जाता रहा है। फाइलेरिया से निजाद पाने के लिए लौंग का उपयोग घरेलु उपचार के रूप में होते आ रहे है। लौंग का पॉउडर बना कर गर्म पानी के साथ सेवन करने से   फाइलेरिया के सूजन से तो राहत मिलती ही है साथ -ही साथ दर्द से भी राहत पाया जा सकता है। 
  • इसके अलावे चाय में लौंग डालकर सेवन करने से भी  फाइलेरिया से आराम मिलता है। 

4. संखपुष्पी  से फाइलेरिया के घरेलु उपचार :-

  • संखपुष्पी के जड़ का प्रयोग  फाइलेरिया में एक अचूक घरेलु नुस्खे के रूप में होते आ रहे है। संखपुष्पी के जड़ को साफ कर अच्छी तरह से पीसकर उसका पेस्ट बनाकर गर्म पानी के साथ मिलाकर सूजन के स्थान पर लगाने से सूजन व दर्द से आराम पाया जा सकता है। 

5.  सोंठ से फाइलेरिया के घरेलु उपचार :-
  • सोंठ का उपयोग फाइलेरिया से आराम पाने के लिए घरेलु नुस्खे के रूप होते आ रहे है। सोंठ को पीसकर उसका चूर्ण बना ले तथा संखपुष्पी के जड़ का भी पॉउडर बना ले फिर दोनों के चूर्ण को मिलाकर रोजाना एक कप गर्म पानी के साथ सेवन करने से फाइलेरिया के जीवाणु नष्ट हो जाते है तथा दर्द व सूजन में भी कमी हो जाते है। 
फाइलेरिया एक गंभीर रोगों में आने वाले रोग है। यदि किसी पुरुष तथा महिला को किसी भी अंग में फाइलेरिया हो जाये तो काफी कठिनाई का सामना करना पड़ता है। फाइलेरिया खासकर पांव में देखा गया है जो जड़ से ठीक होने में काफी समय लगता है ,फिर भी हम घरेलु नुस्खे को अपनाकर फाइलेरिया से तत्काल निजाद पा सकते है। यदि किसी कारणवश फाइलेरिया का सूजन व दर्द कम नहीं हो रहा हो तो तुरंत किसी नजदीकी चिकिसक से जरूर संपर्क कर लें। 
फाइलेरिया के घरेलु उपचार - Herbal Home Remedies For Elephantiasis. फाइलेरिया के घरेलु उपचार - Herbal Home Remedies For Elephantiasis. Reviewed by Hindi Doctor on अप्रैल 15, 2018 Rating: 5
Blogger द्वारा संचालित.