एड्स के घरेलु उपचार - Herbal Home Remedies For AIDS.


एड्स एक संक्रमित रोगों में आते है जिसमें एचआईवी संक्रमण होता है और बढ़ते समय के साथ वह एड्स का रूप ले लेती है। एड्स की उत्पति वायरस या एचआईवी के कारण होती है। एड्स में हूामन इमूनडिफियन्सी वायरस शरीर के अंदर कार्यशैली में रुकावट डालती है जिससे शरीर कमजोर हो जाते है। एड्स कोई गंभीर बीमारी नहीं है लेकिन समय पर इसका इलाज कराना अतिआवश्यक है।एड्स से पीड़ित रोगी की मृत्यु  अभी भी  जानकारी नहीं रहने के कारण दिनोंदिन हो रही है जिसमे भारत का स्थान तीसरा  है  क्योंकि किसी को एड्स होना अभी भी समाज में शर्म की बात मानी जाती है। जब कि एड्स सिर्फ एचआईवी संक्रमित व्यक्ति से शारीरिक सम्बंद स्थापित करने से ही उत्पन नहीं होते है। यदि कभी आपको  एचआईवी संक्रमित खून भी आपके शरीर में चढ़ा हो तो आपको एड्स हो सकता है। एड्स जैसे बीमारी के बढ़ोतरी का एक कारण यह भी है कि एड्स का पता चलते -चलते काफी देर हो  जाते है। इसलिए यह जरुरी है कि जब भी आपको एड्स के शुरुआती लक्षण का पता लगे तो तुरंत ही इसकी जाँच जरूर करवा लें।

एड्स के लक्षण  AIDS Ke Lakshan:-

  • यदि लगातार बुखार आता हो तो हो सकता है कि आपको एड्स की शिकायत हो। 
  • यदि थोड़ा काम करने के उपरांत जायदा थकान महसूस हो तो हो सकता आपको एड्स या एचआईवी हो। 
  • यदि आपके शरीर पर लाल रंग के दाग हो जाये और काफी समय से वे दाग अच्छे नहीं हो रहे हो तो हो सकता है कि आप एचआईवी  से संक्रमित हो। 
  • यदि आपके शरीर के जोड़ों या मांसपेसी में लम्बे समय से दर्द कम नहीं हो रहे हो तो एड्स का ख़तरा बढ़ जाते है। 
  • यदि रात को सोते वक्त अचानक बिना कोई कारण के पसीने आते हो तो हो सकता है कि आपको  एचआईवी  या एड्स हो। 
  • यदि आपको लगातार सिर में दर्द रहते हो और कोई उपचार करने से भी आपके सिर का दर्द ठीक न हो तो हो सकता है कि आपको  एचआईवी  या एड्स हो। 
  • यदि समय के साथ आपका वजन कम होते जाय तो हो सकता है कि आपको  एचआईवी  या एड्स हो। 
  • यदि बिना कोई कारण के आपको तनाव हो जाये तो हो सकता है कि आप एचआईवी से संक्रमित हो। 
  • यदि आपको बिना कोई वजह के लगातार मलती या सर्दी -जुकाम के शिकायत रहते हो तो हो सकता है कि एचआईवी या एड्स से संक्रमित हो। 

एड्स के कारण AIDS Ke Karan:-

  • एड्स यौन - संबधों से उत्पन हो सकते है ,जब कोई पुरुष या महिला  एचआईवी संक्रमित व्यक्ति से शारीरिक संबंध स्थापित करते है तो उनके योनि के माध्यम से वे विषाणु आपके शरीर में चले जाते है जिससे वह एचआईवी संक्रमित  हो जाते है और वही संक्रमित विषाणु एड्स का रूप ले लेती है। 
  • कभी -कभी एचआईवी संक्रमित  खून चढ़ने से भी एचआईवी या एड्स हो सकता है। 
  • कभी -कभी संक्रमित सुई के उपयोग से भी  एड्स हो सकता है। 
  • यदि एचआईवी संक्रमित  महिला अपने नवजात शिशु को अपना स्तनपान कराती हो उस शिशु को भी एचआईवी या एड्स हो सकता है। 

एड्स  के  रोकथाम  के  उपाय     Prevention Of AIDS:-

  • एड्स या एचआईवी संक्रमित पुरुष या महिला के साथ शारीरिक संबंध स्थापित करने से फैलता है इसलिए यह जरुरी है कि यौन संबंध स्थापित करने के पहले एचआईवी की जाँच करवा लें। 
  • एड्स या एचआईवी को रोकने के लिए लिए एक जरुरी बात यह भी आती है कि एक व्यक्ति को यौन संबंध सिर्फ एक पार्टनर के साथ रखना चाहिए। 
  • यदि कोई पुरुष एक से जायदा महिला के साथ यौन संबंध बनाते है तो कंडोम का इस्तेमाल करे। लेकिन किसी भी पुरुष या महिला के लिए अच्छा होगा की सेक्स पार्टनर एक ही हो। 
  • यदि विशेष परिस्थति में आपको खून चढ़वाना पड़ जाये तो खून की जाँच जरूर करवा लें। 
  • यदि किसी तरह के बीमारी के लिए आपको सुई लगाना पड़ जाये तो डिस्पोजल सिरंच का इस्तेमाल करे। 

एड्स / एचआईवी होने पर घरेलु उपाय Home Remedies For AIDS/HIV :-

  • एड्स या एचआईवी से पीड़ित रोगी को ताजे फल व साग -सब्जी खाने चाहिए। 
  • एड्स या एचआईवी से ग्रसित रोगी को खाने के समय दाल का प्रयोग करना चाहिए। 
  • एड्स या एचआईवी के रोगी को कम वसा युक्त खाना खाने चाहिए। 
  • एड्स या एचआईवी के रोगी को सात दिन में कम से कम एक या दो बार पैदल व दौड़ना लाभकारी होते है। 
  • एड्स या एचआईवी से ग्रसित रोगी अपने को ठीक रखने के लिए प्राणियम भी कर सकते है। एड्स या एचआईवी के रोगी के लिए गुप्तपद्मासन लाभकारी होते है। 

एड्स / एचआईवी होने पर परहेज  :-

  • एड्स या एचआईवी से पीड़ित रोगी को यौन संबंध स्थापित करने के समय कंडोम का इस्तेमाल करना बेहत जरुरी होते है। 
  • एड्स या एचआईवी के रोगी को धुरुमपान या शराब का सेवन करना वर्जित है। 
  • एड्स या एचआईवी के रोगी को नशीली दवा का सेवन नहीं करना चाहिए। 
  • एड्स या एचआईवी के रोगी को खाना खाने के पहले व खाना खाने के उपरांत अच्छी तरह से हाथो को साफ करना चाहिए।


एड्स या एचआईवी एक गंभीर बीमारी में आते है इसलिए इस बीमारी से ग्रसित रोगी को डाक्टरी सलाह के अनुसार ही अपना उपचार करना बेहतर होगा। लेकिन  डाक्टरी उपचार के साथ -साथ कुछ साबधानी रखना बहुत जरुरी होते है। जिससे एड्स या एचआईवी को बहुत हद तक रोका जा सकता है। 
एड्स के घरेलु उपचार - Herbal Home Remedies For AIDS. एड्स के घरेलु उपचार - Herbal Home Remedies For AIDS. Reviewed by A Sinha on मार्च 16, 2018 Rating: 5
Blogger द्वारा संचालित.