मलेरिया के घरेलु उपचार - Herbal Home Remedies For Malaria.



मलेरिया (Malaria ) एक गंभीर बीमारीयों में माने जाते है। मलेरिया से पीड़ित रोगी को सर्दी व सिरदर्द के साथ काफी तेज गति से बुखार आ जाते है यदि समय पर इसका सही उपचार नहीं किया गया तो मलेरिया जानलेवा भी हो सकते है। मलेरिया के रोग की उत्पति मादा एनाफ़िलीज मच्छर के काटने से उत्पन होते है। ऐसे तो मलेरिया के बुखार से ग्रसित कोई भी हो सकते है लेकिन अधिकतर बच्चों में मलेरिया के बुखार को ज्यादा देखा गया है।


मलेरिया के लक्षण   Malaria Ke Lakshan :-  

  • मलेरिया के बुखार से ग्रसित रोगी को सिर में दर्द व सर्दी के साथ तेज बुखार आना मलेरिया के लक्षण माने जाते है। 
  • मलेरिया के बुखार में रोगी को बुखार आने के साथ -साथ ठंड भी लगती है। 
  • कभी -कभी बुखार आने के बाद रोगी का जीभ मचलना मलेरिया के लक्षण होते है। 
  • मलेरिया से पीड़ित रोगी को बुखार के साथ -साथ पुरे शरीर में कमजोरी व थकान का अनुभव होना भी मलेरिया के ही लक्षण हो सकते है। 
  • मलेरिया के बुखार का तापमान 102 डिग्री से 106 डिग्री तक हो जाते है जो मलेरिया के लक्षण होते है। 
  • मलेरिया के बुखार में कभी -कभी रोगी बेहोश हो जाना भी मलेरिया के लक्षण हो सकते है। 


मलेरिया के कारण  Malaria Ke Karan :- 

  • मलेरिया के बुखार मादा एनाफिलिज मच्छर के काटने के कारण उत्पन होते है। 
  • यदि माँ को गर्भाबस्था में मलेरिया हो जाये तो बच्चे को भी मलेरिया हो सकता है। यानि बच्चे को मलेरिया होने का कारण माता को मलेरिया होना हो सकता है। 
  • कभी -कभी मलेरिया से पीड़ित रोगी का खून चढ़ाने से भी संक्रमण से मलेरिया हो सकता है। 
  • मलेरिया से पीड़ित रोगी को इंजेक्शन का उपयोग दूसरे व्यक्ति पर करने से भी उस इंजेक्शन से भी मलेरिया हो सकते है। 


मलेरिया के बुखार के घरेलु उपचार Herbal Home Remedies For Malaria :-



1. अदरक से मलेरिया के घरेलु उपचार :-

  • मलेरिया के बुखार से पीड़ित रोगी के लिए अदरक का प्रयोग काफी फायदेमंद होते है। अदरक का कम तापमान में काढ़ा बनाकर रोजाना मलेरिया के रोगी सुबह -शाम सेवन करते रहे तो मलेरिया का बुखार कम हो जाता है एवं सर्दी भी कम हो जाते है। 
  • इसके अलावे अदरक के टुकड़े को पानी में डालें तथा उस पानी में एक -दो चमच्च किशमिस डालकर कम तापमान में पानी को गर्म करते रहे जबतक की पानी आधा न हो जाये। अब उस  अदरक व किसमिश के काढ़े को मलेरिया के रोगी नियमित सुबह -शाम सेवन करते रहे तो मलेरिया का बुखार बहुत जल्दी कम जाते है।  



2.  तुलसी से मलेरिया के घरेलु उपचार :-

  • तुलसी का उपयोग आदिकाल काल से एक कारगर औषधि के रूप में किया जाता रहा है एवं पुराने से पुराने रोगों को ठीक करने के लिए उपयोगी दवा है। तुलसी के पत्ते के साथ हरा मिर्च को मिलाकर पीस कर मलेरिया के रोगी रोजाना सुबह -शाम सेवन करते रहे तो मलेरिया के बुखार कम हो जाते है। 



3.  सागरगोटा से मलेरिया के घरेलु उपचार :-

  • सागरगोटा का प्रयोग काफी पुराने ज़माने से अचूक औषधि के रूप में होते आ रहे है। सागरगोटा का उपयोग करने से मलेरिया का बुखार से निजाद पाया जा सकता है। 



4.  नीम से मलेरिया के घरेलु उपचार :-

  • नीम का उपयोग मलेरिया के रोगी के लिए तो फायदेमंद होते ही है साथ -ही -साथ काफी पुराने से पुराने रोगों में कारगर दवा के रूप में माने जाते है। नीम के तने के छाल का काढ़ा बनाकर मलेरिया के रोगी को पिलाने से मलेरिया के बुखार तो कम होते ही है तथा मलेरिया के एनाफिलीज मच्छर को भी अंदर से ख़त्म कर देते है। 
  • नीम के पत्ते एवं कालीमिर्च को पानी के साथ पीसकर उसका काढ़ा बना कर मलेरिया के रोगी सेवन करे तो मलेरिया के बुखार से काफी हद तक आराम मिल जाते है। 
  • इसके अलावे नीम का तेल व सरसों के तेल का मिश्रण बनाकर मलेरिया के रोगी से शरीर में मालिश करते रहने से शरीर को तो आराम मिलते ही है साथ -ही -साथ बुखार भी कम हो जाते है। 



5.  गिलोय से मलेरिया के घरेलु उपचार :-

  • मलेरिया के रोगी के लिए गिलोय रामबाण औषधि माने जाते है। गिलोय के पत्ते का काढ़ा बनाकर उस काढ़े में शहद मिलाकर मलेरिया से पीड़ित रोगी नियमित पीते रहे तो मलेरिया के बुखार से निजाद पाया जा सकता है। 
  • इसके अलावे गिलोय के बीज को पीसकर एक गिलास पानी में रात भर भीगने दे दें और रोजाना उस पानी को छानकर सुबह पीने से मलेरिया से राहत पाया जा सकता है। 



6. फिटकिरी से मलेरिया के घरेलु उपचार :-

  • फिटकिरी से भी मलेरिया के बुखार से निजाद पाया जा सकता है। फिटकिरी को कम तापमान में भुन ले तथा उसका चूर्ण बना ले। अब उस फिटकिरी के चूर्ण को गर्म पानी से साथ मलेरिया के रोगी को तेज बुखार में दो -दो घंटे के अन्तराल में तबतक देते रहे जबतक कि बुखार कम न जाये। इस विधि के प्रयोग से मलेरिया के बुखार से तत्काल निजाद पाया जा सकता है। 



7.  दालचीनी से मलेरिया के घरेलु उपचार :-

  • दालचीनी का उपयोग मलेरिया के रोगी के लिए कारगर दवा होते है। दालचीनी का पॉउडर व कालीमिर्च का पॉउडर एवं शहद मिलाकर एक गिलास पानी में काढ़ा के रूप में गर्म कर ले तथा उस पानी को ठंडा होने के बाद सेवन करने से मलेरिया के बुखार से आराम हो जाते है। 



8.  जामुन से मलेरिया के घरेलु उपचार :-

  • जामुन मलेरिया के रोगी के लिए उपयोगी दवा माने जाते है। जामुन के छाल को अच्छी तरह सुखाकर उस छाल का चूर्ण बना ले तथा उस जामुन के छाल के चूर्ण को गुड़ के साथ मलेरिया के रोगी रोजाना सेवन करते रहे तो मलेरिया के बुखार से आराम मिल जाते है। 
मलेरिया के बुखार से पीड़ित रोगी घरेलु नुश्खे को अपनाकर मलेरिया के बुखार से निजाद पा सकते है। यदि आपको या आपके बच्चे को मलेरिया का बुखार जाँच के बाद पाया जाता है तो आप घरेलु नुस्खे अपना सकते है।  लेकिन यदि मलेरिया के बुखार इन घरेलु नुस्खे से ठीक नहीं हो रहे हो तो तुरंत ही किसी नजदीकी चिकिसक से संपर्क करें। क्योंकि कभी -कभी मलेरिया जानलेवा भी हो जाते है। 


मलेरिया के घरेलु उपचार - Herbal Home Remedies For Malaria. मलेरिया के घरेलु उपचार - Herbal Home Remedies For Malaria. Reviewed by Hindi Doctor on फ़रवरी 17, 2018 Rating: 5
Blogger द्वारा संचालित.