पित्ताशय की पथरी के घरेलु उपचार - Herbal Home Remedies For Gallstones.




पित्ताशय लिवर के नीचे रहने वाले थैली का नाम है जिसे पित्त भी कहा जाता है। इसी पित्त में कोलस्ट्रोल या नमक से उत्पन होकर एक पथरी का रूप ले लेती है जिसके कारण पित्ताशय में पथरी हो जाती है। पित्ताशय में पथरी होना कोई गंभीर बीमारी नहीं माने जा सकते है क्योंकि पित्ताशय में पथरी को गलाने में घरेलु नुस्खे काफी कारगर व उपयोगी माने जाते रहे है। लेकिन यदि आपके पित्त में पथरी का आकार बड़ा है तो पथरी गलने में थोड़ा समय लग सकता है।पित्ताशय में पथरी के रोग से ग्रसित पुरुष व महिला दोनों हो सकते है लेकिन जायदातर महिलाएं जो 30 वर्ष के बाद गर्भ धारण करती है उनमें ज्यादातर पित्त में पथरी होने की सम्भावना अधिक रहती है।


पित्ताशय में पथरी के लक्षण Gallstones Ke Lakshan :-   

  • पित्ताशय में पथरी का मुख्य लक्षण पेट में दर्द का लगातार रहना हो सकता है। 
  • यदि आपके पेट के नीचे दाहिने ओर दर्द का अनुभव हो तो पित्ताशय में पथरी हो सकता है। 
  • पित्ताशय में पथरी के रोगी को खाना खाने के बाद पेट दर्द होना शुरू हो जाता है जो पित्ताशय में पथरी के लक्षण है। 
  • कभी -कभी पित्ताशय में पथरी के रोगी का पेट दर्द होते -होते दर्द छाती तक भी होना पित्ताशय में पथरी के लक्षण है। 
  • कभी -कभी पेट दर्द के साथ -साथ उल्टी होना भी पित्त में पथरी के लक्षण हो सकते है। 
  • पित्त में पथरी के कारण कमर दर्द भी लगातार रहना भी पित्ताशय में पथरी होने के लक्षण है। 


पित्ताशय में पथरी के कारण  Gallstones Ke Karan :-

  • यदि आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल व बिलीरुबिन की अधिकता हो जाये तो पित्तशय में पथरी होने के कारण बन सकते है। 
  • पित्ताशय में पथरी होने के एक कारण अधिकतर पाए जाते है कि समय पर भोजन नहीं करना। 
  • कभी -कभी अधिक मोटापा भी पित्ताशय में पथरी होने के कारण हो सकते है। 
  • कभी -कभी अधिक कैलोरी युक्त भोजन का लगातार सेवन करना भी पित्ताशय में पथरी के कारण बन सकते है। 
  • कभी -कभी हर वक्त चावल का उपयोग करना भी पित्त में पथरी के कारण हो सकते है। 
  • कभी -कभी देखा गया है कि गलत रूप से सोने या बैठने के कारण भी पित्ताशय में पथरी हो जाते है। 


पित्ताशय में पथरी के घरेलु उपचार Herbal Home Remedies For Gallstones :-  

1.  हल्दी से पित्ताशय के पथरी का घरेलु उपचार :-
  • हल्दी  का उपयोग बहुत से जटिल रोगो में किया जाता रहा है। पित्ताशय के पथरी में भी हल्दी काफी उपयोगी दवा है। हल्दी का उपयोग अपने खाने में अधिक मात्रा में करने से पित्ताशय के पथरी को बहुत हद तक गलाने का काम करती है। 
2.  पथरचूर से पित्ताशय के पथरी का घरेलु उपचार :-
  • पित्ताशय में पथरी होने से पथरचूर के पत्ते काफी कारगर औषधि माने जाते है। पथरचूर के पत्ते का रस निकालकर रोजाना सुबह -शाम सेवन करने से काफी हद तक पित्त की पथरी को गलाने का काम करती है। 
  • इसके अलावे पथरचूर के पत्ते के रस को शर्करा के साथ पित्ताशय में पथरी से ग्रसित रोगी लगातार सेवन करते रहे तो पथरी बहुत जल्दी गलकर समाप्त हो जाते है। 

3.  बड़ी इलायची से पित्ताशय के पथरी का घरेलु उपचार :-
  • पित्ताशय   के पथरी को गलाने में बड़ी इलायची काफी कारगर होते है। आधा ग्राम बड़ी इलायची तथा आधा ग्राम तरबूजे के बीज को मिलाकर उसका चूर्ण बना ले तथा उस मिश्रण को रोजाना गर्म पानी के साथ सुबह -शाम सेवन करते रहने से पित्त की पथरी गल जाते है। 
4.  धतूरे से पित्ताशय के पथरी का घरेलु उपचार :-
  • पित्ताशय में पथरी होने से पुराने युग से धतूरे का इस्तेमाल रामबाण औषद्यि के रूप में होते आ रहे है। धतूरे के बीज को दुध में डालकर उसे अच्छी तरह से उबाल कर एक दिन तक छोड़ दे फिर दूसरे दिन धतूरे के बीज छः ग्राम की मात्रा को दही के साथ रोजाना सेवन करने से पित्त में पथरी के रोगी को काफी लाभ होते है। लेकिन इस विधि का प्रयोग कमजोर  शरीर के रोगी न  ही करे तो  बेहतर होगा।      

5.  सहजना के जड़ से पित्ताशय के पथरी का घरेलु उपचार :-
  • पित्ताशय में पथरी के रोगी के लिए सहजना के जड़ काफी कारगर औषद्यि होते है। सहजना के जड़ को सुखाकर कम तापमान में काढ़ा बना ले तथा उस काढ़े में हींग व सेंधानमक मिलाकर रोजाना पित्त में पथरी के रोगी सेवन करते रहे तो बहुत जल्दी पथरी गलकर समाप्त हो जाते है। 
6.  नारियल से पित्ताशय के पथरी का घरेलु उपचार :-
  • नारियल के जड़ पित्त के पथरी को गलाने काफी असरदार होते है। नारियल के जड़ को कम तापमान में काढ़ा बनाकर पीते रहने से पित्त की पथरी बहुत जल्दी गल जाते है। 

7.  सेब के सिरके से पित्ताशय के पथरी का घरेलु उपचार :-
  • सेब का सिरका पित्त की पथरी को काफी हद तक गलाने में सहायक होते है। एक गिलास गर्म पानी ले लें तथा उस पानी में एक चमच्च नींबू का रस व दो चमच्च सेब के सिरके का मिश्रण बना ले और रोजाना सुबह भूखे पेट सेवन करने से पित्त के पथरी गल जाते है। 
8.  केला से पित्ताशय के पथरी का घरेलु उपचार :-
  • केले के तने का रस में थोड़ा मिश्री मिलाकर पित्त में पथरी के रोगी नियमित सुबह -शाम पीते रहे तो पथरी बहुत जल्दी गल जाते है। 
  • इसके अलावे केले के रस में कमली शोरा व दुध मिलाकर रोजाना पित्त में पथरी के रोगी सेवन करते रहे तो काफी हद तक बहुत जल्दी पथरी गल जाते है। 

9.  प्याज से पित्ताशय के पथरी का घरेलु उपचार :-
  • पित्ताशय में पथरी से ग्रसित रोगी के लिए प्याज उपयोगी चीज होते है। प्याज ,लहसुन की कलियाँ ,महुआके बीज  ,सरसों के बीज तथा सहजन के जड़ को पीसकर मिश्रण बनाकर पित्त के जगह पर लगा देने से तत्काल पित्त में पथरी के दर्द से आराम मिलते है।
10.  योग से पित्ताशय के पथरी के उपचार :-
  • पित्ताशय में पथरी के रोगी के लिए योग का करना भी काफी फायदेमंद साबित होते है। पित्ताशय में पथरी से पीड़ित रोगी को रोजाना भुजंगासन ,सर्बांगासन ,धनुरासन तथा शलभासन जैसे योग करना काफी लाभदायक होते है। 


पित्ताशय में पथरी होना आजकल आमबात हो गयी है जिसे हम आसानी से घरेलु नुस्खे को अपनाकर पथरी को गलाकर पित्त में हुए पथरी जैसे रोग से निजाद पा सकते है। लेकिन जब पथरी काफी बड़ा हो जाये तो डाक्टरी सलाह के अनुसार ही उपचार करना बेहतर होगा। फिर भी कभी -कभी देखा गया है कि पित्त में हुए बड़े पथरी को भी घरेलु नुस्खे से गलाया गया है। 
पित्ताशय की पथरी के घरेलु उपचार - Herbal Home Remedies For Gallstones. पित्ताशय की पथरी के घरेलु उपचार - Herbal Home Remedies For Gallstones. Reviewed by A Sinha on फ़रवरी 16, 2018 Rating: 5
Blogger द्वारा संचालित.