बुखार के घरेलु उपचार - Herbal Home Remedies For Fever .


बुखार (Fever ) शरीर के उस बीमारी का नाम है जब किसी व्यक्ति के शरीर का तापमान सामान्य से अधिक हो जाये तो वह बुखार का रूप ले लेती है। किसी व्यक्ति के शरीर का सामान्य तापमान 98 . 6 डिग्री होना चाहिए यदि इस तापमान से तापमान आपके शरीर में हो जाये तो समझा जायगा कि आपको बुखार आ गया है। बुखार का शिकार अधिकतर व्यक्ति बदलते मौसम में हो जाते है या कभी -कभी जायदा थकान से भी सम्मानता बुखार आपके शरीर में आ जाते है। आजकल यदि किसी व्यक्ति को बुखार हो जाते है तो तुरंत बुखार से निजाद पाने के लिए एलोपैथिक दवा का इस्तेमाल कर लेते है जो आगे के लिए काफी हानिकारक सिद्ध होते है। बुखार से निजाद पाने के लिए आप कुछ आसान घरेलु नुस्खे अपनाकर आसानी से बुखार से निजाद पा सकते है।

बुखार के लक्षण  Fever ke Lakshan :-

  1.    बुखार के रोगी के  शरीर में ठंड ,कपकपी या थरथराहट का अनुभव होने लगे तो मान लिया जायगा कि वह बुखार से ग्रसित हो गये है। 
  2. कभी -कभी बुखार आने से बुखार के रोगी के शरीर के मांसपेसी या जोड़ों में दर्द भी हो सकते है। 
  3. जो व्यक्ति शारीरिक रूप से कमजोर होते है तो उसे बुखार आने से पसीना भी आते है। 
  4. कभी -कभी बुखार के रोगी का रक्तचाप भी बढ़ जाते है। 
  5. बुखार के रोगी को कभी -कभी  सिर में तेज दर्द का भी अनुभव होते है और इसके कारण बेहोश भी हो जाते है। 
  6. कभी -कभी बुखार के रोगी को यदि लगातार बुखार रहते हो तो कमजोरी का भी अनुभव होते है। 
  7. बुखार के एक लक्षण रोगी को भूख समय पर नहीं लगना भी माना जा सकता है। 
  8. कभी -कभी बुखार रहने के कारण रोगी को उल्टी भी होने लगते है। 
  9. बुखार के रोगी को अपने शरीर में सुस्ती लगने लगते है। 
  10. बुखार के रोगी के शरीर का तापमान 100. 4 डिग्री का तापमान हो जाता है तो मान लिया जाता है कि वह बुखार का रोगी है। 

बुखार के कारण Fever Ke Karan :-   

  • बुखार का एक मुख्य कारण गर्मी के मौसम में जायदा थकान से उत्पन हो सकते है। 
  • बुखार का एक कारण आपके शरीर में वायरस संक्रमण भी हो सकते है। 
  • बुखार का एक कारण में जीवाणु संक्रमण भी हो सकते है। 
  • बुखार का आजकल एक प्रमुख कारण गंदे वातावरण में रहने से भी उत्पन हो सकते है। 
  • बच्चे को टीका के कारण भी बुखार आ जाते है लेकिन इस तरह के बुखार में घबराने की जरूरत नहीं है.

बुखार के आसान घरेलु उपचार Herbal Home Remedies For Fever :-  

1. तिल का तेल से बुखार के घरेलु उपचार :-
  • तिल का तेल के सेवन से किसी तरह के बुखार से बहुत जल्दी निजाद मिल जाते है। तिल के तेल में चार -पांच लहसुन की कलियाँ तोड़ कर छान ले फिर उसमे सुवादानुसार सैंदानमक मिलाकर बुखार के रोगी यदि सेवन करे तो बुखार से काफी आराम मिलते है। 
2. पानी से बुखार के घरेलु उपचार :-
  • जब किसी व्यक्ति को किसी कारण से भी बहुत तेज बुखार आ जाये तो डाक्टर भी सलाह देते है कि ठंडे पानी से भीगोकर कपड़े की पट्टी बुखार के रोगी को देते रहे जबतक कि उसके शरीर का तापमान कम न हो जाये। लेकिन इस विधि का प्रयोग बहुत जायदा बुखार में ही करे। 
3.  तुलसी से बुखार के घरेलु उपचार :-
  • तुलसी का उपयोग बुखार को हटाने में एक अचूक औषधि के रूप में आदिकाल से चले आ रहे है। तुलसी के 15 -20 पत्ते  को एक कप अदरक के रस में मिलाकर सामान्य तापमान में गर्म करे जबतक तुलसी व अदरक के मिश्रण की मात्रा आधा कप न हो जाये। तब उसमे एक मात्रा में शहद मिला ले और उसे नियमित रोजाना दो से तीन बार सेवन करने से लगातार रहने वाले बुखार से भी लाभ मिलते है। 
  • बुखार में रोजाना तुलसी के चाय के सेवन से भी काफी लाभ होते है। 
  • तुलसी के पत्ते को एक गिलास पानी में एक चौथाई कालीमिर्च के साथ मिलाकर उसका कड़ा बनाकर रोजाना सेवन करने से बुखार से आराम मिलते है। 
4. लहसुन से बुखार के घरेलु उपचार :-
  • लहसुन बुखार के लिए उपयोगी दवा माने जाते है। एक कप शुद्ध गर्म पानी ले उसमे एक कली लहसुन डाल दे तथा उस पानी में एक लोंग डाल दे और उस पानी को थोड़ी देर तक छोड़ दे फिर उस मिश्रित पानी को बुखार के रोगी दो से तीन बार सेवन करे ,बुखार से काफी हद तक लाभ होते है। 
  • बुखार के रोगी यदि लहसुन की दो कलियों के साथ दो लोंग को मिलाकर दो चमच्च जैतून के तेल  में डालकर उसे गर्म कर ले और उसे पुरे शरीर में अच्छी तरह मालिश करने से तो बुखार से काफी राहत मिलती है। 
5. मुनक्का से बुखार के घरेलु उपचार :-
  • बुखार के रोगी के लिए मुनक्का रामबाण औषधि है। बुखार से पीड़ित रोगी मुनक्का के 20 -25 दाने ले तथा उस मुन्नके के दाने को आधा कप पानी में डाल कर भींगने दे जबतक कि मुनक्का के दाने पूरी तरह से नरम न हो जाये। फिर मुनके के दाने से उसका रस निकाल कर उस रस को बुखार रहने पर रोजाना दो से तीन बार सेवन करने से बुखार से आराम मिलता है। 
6.  अदरक से बुखार के घरेलु उपचार :-
  • बुखार के रोगी के लिए अदरक काफी लाभदायक होते है। अदरक को अच्छी तरह साफ करके उसका चूर्ण बना ले , एक कप पानी में अदरक के चूर्ण को डाल कर उस पानी को गर्म कर ले ,हल्का ठंडा होने पर उसमे शहद के साथ रोजाना बुखार रहने पर सेवन करने से लाभ मिलता है। 
  • अदरक का उपयोग चाय के साथ करने पर भी बुखार से लाभ होते है।   
7. पुदीना से बुखार के घरेलु उपचार :-
  • पुदीना  बुखार को समाप्त करने का काम बहुत जल्द करता है। पुदीना के पत्ते को साफ कर उसे अच्छी तरह पीस ले ,एक चमच्च पीसे हुए पुदीना के पत्ते को एक कप गर्म पानी में डाल दे तथा उस पानी को करीब पांच से दस मिनट अस्थिर छोड़ दे और उस मिश्रित पुदीना पानी को बुखार के रोगी रोजाना दो से तीन बार सेवन करे ,बुखार से काफी लाभ मिलेगा। 
  • बुखार के रोगी को एक कप पानी में पुदीना के  रस व कालीमिर्च का पॉउडर में दो चमच्च  अदरक का रस मिलाकर उस मिश्रण को हल्के तापमान में गर्म करके उसका कड़ा बना ले और बुखार रहने से दिन में दो से तीन बार सेवन करने से बुखार से आराम मिलते है।  

बुखार में परहेज करें :-

  • बुखार के रोगी को हल्के खाना खाने चाहिए। 
  • बुखार में ठंडा खाना बर्जित होते है जैसे -दही ,कोलड्रिंक ,ठंडे पानी। 
  • बुखार रहने पर ठंड से बचने चाहिए। 
  • बुखार आने पर शरीर को आराम दे। 
  • यदि आपको बुखार जीवाणु संक्रमण से आ रहे हो तो आसपास में गंदगी जमने न दे। 
बुखार एक आम रोग है ,इसमें यदि आप समय पर इसका घरेलु नुस्खे से उपचार कर लेते है तो आपको इस बीमारी से कम समय में आसानी से राहत मिल सकती है। लेकिन यदि इस घरेलु उपचार से आपका बुखार का निदान नहीं हो रहे हो तो जरूर ही कोई बिशेष बात हो सकती है इसलिए आप किसी नजदीकी चिकिसक से सलाह जरूर ले लें यदि कोई बिशेष बात न हो तो आप इस घरेलु नुस्खे अपनाकर अपना उपचार कर सकते है। 
बुखार के घरेलु उपचार - Herbal Home Remedies For Fever . बुखार के घरेलु उपचार - Herbal Home Remedies For Fever . Reviewed by Hindi Doctor on फ़रवरी 03, 2018 Rating: 5
Blogger द्वारा संचालित.